Google+ Followers

Sunday, December 2, 2012

द्वन्द



रेय आई गर्त तो
सब पाटने हुमके,
पत्थरोंकेभी दृगों से
भावना केविन्दु छलके,

लड़ तिमिर से 

पग बढ़े, मग मे
दीप ही दीप चमके,
निष्कपट, नि:शब्द
आह मे जब 
आस्था की मांग थी,
पत्थरों के ढ़ेर को
तब कहां पहचान थी!
द्वन्द छाया है हृदय में-
ये काल के आयाम हैं
या अर्थ ही अब भाल है?
                          ˉ 'विन्दु'


4 comments:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 30/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!
    कृपया वर्ड व्हेरिफिकेशन हटाइये

    ReplyDelete
  2. सादर आभार महोदया,जो आपने मुझ अनभिज्ञ को भी स्थान दिया.
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया विन्दु जी...

    अनु

    ReplyDelete
  4. सस्नेह धन्यवाद अनु जी!

    ReplyDelete